किसी भी बीमारी के इलाज के बारे में जानने से पहले हमारा उस बीमारी को समझना जरुरी है…

अगर हम बात बीमारी या रोग की कर रहे है तो ये बात साफ है की इसका सीधा सम्बन्ध शरीर से है क्योंकि बिना शरीर के किसी भी बीमारी या रोग की कोई परिकल्पना भी नहीं की जा सकती हैं, इसीलिए किसी भी बीमारी को समझने से पहले हमारा मानव शरीर की संरचना को समझना जरुरी है I

pamplate-a

 

मानव शरीर का निर्माण कोशिकाओं से हुआ है एक मानव शरीर के निर्माण में लगभग ६ ख़रब कोशिकाओं का योगदान होता है इन कोशिकाओं का समूह उत्तक, उत्तको का समूह अंग और अंगो का समूह बनता है सम्पूर्ण शरीर; शरीर के भीन्न-भीन्न अंगो के निर्माण में अलग-अलग कोशिकाओं की भूमिका होती है जैसे त्वचा, मांसपेशिया,अस्थिया, ह्रदय, मस्तिष्क, रक्त आदि का निर्माण २२० तरह की अलग-अलग कोशिकाओं से होता है; जो स्टेम सेल  के माध्यम से बनती है I

pamplate-b

 

शरीर में अलग-अलग अंगो पर होने वाले विकार(disorder),रोग(disease), या असमर्थता(disability)  को हम अलग-अलग नाम से जानते है, उदाहरण के लिए किसी व्यक्ति की त्वचा  पर हुऎ फफोलो या दानो को हम फोड़े का नाम देते है यदि वही उसके चहरे पर हो तो उसे हम pimple या acne  कहते है और पेट में होने पर अल्सर …

pamplate-c

अगर हम किसी भी बीमारी का वास्तविक अवलोकन करेंगे तो यही पायेंगे की उस बीमारी का सीधा सम्बन्ध कोशिकाओं से ही हैI कोशिकाओं की असामान्यता [(abnormality) जैसे :- कमजोरी(weakness), संक्रमण (infection), विकृति (mutation) आदि ]  जिसकी वजह से ही वह रोग या विकार  है …इसीलिए अगर हमे  किसी भी रोग या विकार को पूर्णतः समाप्त करना है तो हमें उन कोशिकाओं को ठीक करना होंगा I  स्टेम सेल थैरेपी को छोड़ किसी  भी अन्य  चिकित्सा पद्धति के द्वारा कोशिकाओं को रिपेयर कर पूर्वावस्था में लाने का कार्य नहीं किया जाता है अपितु सिर्फ बीमारी को नियंत्रित किया जाता है लेकिन स्टेम सेल थैरेपी के माध्यम से हम कोशिकाओं को पुनर्जीवित कर पुनरावस्था में ले कर आते है जिससे व बीमारी या रोग जड़ से खत्म हो जाता है क्योकि जैसा की हम जानते है कोशिकाओं का एक जीवन चक्र होता है जो १२० दिनों का होता है इस जीवन चक्र को पूरा कर प्रत्येक कोशिका २ संतति कोशिका में विभाजित हो जाती है अब जैसा की हम जानते है की जैसी जनक कोशिका होगी वो वैसी ही संतति कोशिका को बनाएगी इसीलिए जो कोशिकाएं डबल स्टेम-सेल थैरेपी  के माध्यम से स्वश्थ कोशिकाओं में रूपांतरित हो चुकी होती है वो अपनी ही तरह स्वस्थ कोशिकाओं का विभाजन कर निरन्तर शरीर को स्वस्थ बनाए रखती है जिससे वह रोग पूरी तरह से ठीक हो जाता है I

pamplate-d

Advertisements

3 Comments

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s